Month: April 2021

What is Motivation?

Motivation is the process that initiates, guides, and maintains goal-oriented behaviors. It is what causes you to act, whether it is getting a glass of water to reduce thirst or reading a book to gain knowledge.Motivation is the fuel for our brain(Mind) which provides constant and enough energy consistently to achieve Goals in our life.There are reasons behind every action. One of the reasons is MOTIVE. Motivation is an important life skill.Extrinsic motivations: are those that arise from outside of the individual and often involve rewards such as trophies, money, social recognition, or praise.
Intrinsic motivations are those that arise from within the individual, such as doing a complicated crossword puzzle purely for the personal gratification of solving a problem.

Entrepreneurs and Children

Every day is a fresh start, Creative pursuits are fun and good for you,Be courageous. “Life shrinks or expands in proportion to one’s courage.” – Anais Nin.Laugh every day. Be active: “Play energizes and enlivens us. It eases our burdens. It renews our natural sense of optimism and opens us up to new possibilities.” – Stuart Brown.Learn Everyday.Be the hero. “Above all, be the heroine of your life, not the victim.” – Nora Ephron.Scars are badges of honor: “Every day you either see a scar or courage. Where you dwell will define your struggle.” – Dodinsky. “Man cannot discover new oceans unless he has the courage to lose sight of the shore.” – Andre Gide. Notice the little things. “Enjoy the little things, for one day you may look back and realize they were the big things.” – Robert Brault Curious: Children are always curious about the things around them. Children get easily fascinated and they often take their time to explore and observe. As an entrepreneur you are on a mission to improve the world and to deliver something unique. Embrace your curiosity and thirst for knowledge in your search for revolutionary ideas.

Basic Concepts of Light in Hindi (प्रकाश: मूलभूत सिद्धान्त)

प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है, जो हमारी आँखों को संवेदित करता है। प्रकाश स्रोत से निकलकर पहले वस्तु पर पड़ता है तथा इन वस्तुओं से लौटकर हमारी आँखों को संवेदित करके वस्तु की स्थिति का ज्ञान कराता है।जब प्रकाश किसी चिकने या चमकदार पृष्ठ पर पड़ता है तो इसक अधिकांश भाग विभिन्न दिशाओं में वापस लौट जाता है इस प्रकाश किसी पृष्ठ से टकराकर प्रकाश के वापस लौटने की घटना को प्रकाश का परावर्तन कहते हैं यदि पृष्ठ अपारदर्शक है तो इसका कुछ भाग अवशोषित हो जाता है यदि पारदर्शक है तो कुछ भाग पृष्ठ के पार निकल जाता है। चिकने व चमकदार पॉलिश किये सतह अधिकांश प्रकाश को परावर्तित कर देते हैं।प्रकाश का एक मध्यम से दूसरे मध्यम में प्रकाश करते समय, दूसरे माध्यम की सीमा पर अपने रेखीय पथ से विचलित होने की घटना का प्रकाश का अपवर्तन कहते है।जब कोई वस्तु दर्पण के सामने रखी जाती है तो वस्तु से चलने वाली प्रकाश किरणें दर्पण के तल से परावर्तित होकर दर्शक की आंखों पर पड़ती हैं जिससे दर्शक को वस्तु की आकृति दिखाई देती है इस आकृति को ही वस्तु का प्रतिबिम्ब कहते है।गोलीय दर्पण किसी खोखले गोले के गोलीय पृष्ठ होते हैं। यह दो प्रकार के होते हैं। उत्तल एवं अवतल दर्पण। उभरे हुए तल वाले जिसमें पॉलिश अन्दर की ओर की जाती है उत्तल दर्पण, तथा दूसरा जिसका तल दबा होता है पॉलिश बाहरी सतह पर होती है अवतल दर्पण कहते है।दो तलों से घिरा जिसके दोनों तल दो गोलों के पारदर्शक खण्ड होते हैं लेंस कहलाता है। इनका उपयोग सभी प्रकाशीय यन्त्रों जैसे : कैमरा, प्रोजेक्टर्स, टेलिस्कोप एवं सूक्ष्मदर्शी आदि में किया जाता है। ये काँच (मुख्यत:) या प्लास्टिक के बने होते हैं। ये दो प्रकार के होते हैं। उत्तल लेंस एवं अवतल लेंस।सूर्य का प्रकाश जब किसी प्रिज्म से गुजरता है तब अपवर्तन के कारण प्रिज्म के आधार की आरे झुकने के साथ साथ विभिन्न रंगों के प्रकाश में बँट जाता है। इस प्रकार प्राप्त रंगों के समूह को वर्णक्रम (Spectrum) कहते है। इन्द्र धनुष बनने का कारण परावर्तन , पूर्ण आंतरिक परावर्तन तथा अपवर्तन है। इन्द्रधनुष हमेशा सूर्य के विपरीत दिशा में दिखायी देती हैं और यह प्रात: पश्चिम में एवं सायंकाल पूर्व दिशा में ही दिखायी देती। है। जब सूर्य का प्रकाश वायुमण्डल से गुजरता है तो प्रकाश वायुमण्डल में उपस्थित कणों द्वारा विभिन्न दिशाओं में फैल जाता है, इसी प्रक्रिया को प्रकाश का प्रकीर्णन कहते है। शरीर का महत्वपूर्ण अंग एक कैमरे की तरह कार्य करता है। बाहरी भाग दश्ढपटल नामक कठोर अपारदर्शी झिल्ली से ढकी रहती है दश्ढपटल के पीछे उभरा हुआ भाग कार्निया कहलाता है।

COVID-19 Prevention

Protect yourself and others from COVID-19 Stay safe by taking some simple precautions, such as : Physical distancing : Maintain at least a 1-metre distance between yourself and others to reduce your risk of infection when they cough, sneeze or speak. Maintain an even greater distance between yourself and others when indoors. The further away, the better. Make wearing a mask…

What After Passing 12th?

For a student, class 12th is the threshold to the world of “Higher Education”. When a student is standing on this threshold he/she must know two things : First where to reach and second is how to reach? The goal must be crystal clear. So let’s know some path to your goals……
B. Tech/BE : Bachelor of Technology / Bachelor of Engineering.
JEE: Joint Entrance Examination – For admission in Indian Institutes of Technology(IITs) and National Institutes of Technology (NITs).
PET : Pre Engineering Test (State Level Entrance Examinations)
BITSAT : BITS Admission test.
VITEEE : VIT Engineering Entrance Exam .
WBJEE : West Bengal Joint Entrance Exam.
Integrated MTech
BCA :  Bachelor of Computer Applications
BArch : Bachelor of Architecture
BSc. : Bachelor of Science.